You are currently viewing इस कदर चाहूँगा तुम्हे कि

इस कदर चाहूँगा तुम्हे कि

इस कदर चाहूँगा तुम्हे कि…

इस कदर चाहूँगा तुम्हे कि, अपना नाम और पता क्या, शहर भूल जाओगी।
अकड़ तब तक है, जब तक मिली नही हो , मिलने पर मिश्री की तरह पानी मे घुल जाओगी।।

Is kadar chahunga tumhe ki, apna naam aur pata kya, shahar bhool jaogi.
Akad tab tak hai, jab tak mili nahi ho, milne par mishri ki tarah pani me ghool jaogi.

पता नही तुम कैसी हो, हीर हो या फिर लैला जैसी हो।
मैंने तो कुछ कहा नही, पर मेरे दोस्त पूछते है भाभी तुम कैसी हो।।

Pata nahi tum kaisi ho heer ho ya phir laila jaisi ho,
Maine to kuch kaha nahi par mere doston puchte hai bhabhi tum kaisi ho.

मंदिर में मांगी गई तुम्हारे लिए हर मन्नत याद है,
खुदा से की गई तुम्हारे लिए हर फरियाद याद है,
शेर, ग़ज़ल , गीत याद हो न हो ,
लेकिन तुम्हारी हर बेवफाई याद है।।

Mandir me maangi gayi tumhare liye har mannat yaad hai,
Khuda se ki gayi tumhare liye har fariyaad yaad hai,
Sher, gazal, geet yaad ho na ho, lekin tumhari har bewafaai yaad hai….

तुम्हारे एक मुस्कान से मेरे दिल मे बहम हो गया।
आँख तुम्हारे मिलाते ही शरीर मे नशा ज्यादा खून कम हो गया।।

Tumhare ek muskan se mere dil me baham ho gya,
Aankh tumhare milate hi sharir me nasha jyada khoon kam ho gya.

तू मेरी किस्मत होती तो मैं मना लेता तुम्हे,
पर मौत किसी का इंतज़ार कहाँ करती है।

Tu meri kismat hoti to mai mana leta tumhe,
Par maut kisi ka intjar kaha kart hai.

खत्म करो बहाना , कब तक पास आने के लिए कॉकरोच बदनाम होगा।
अंधेरी रात के इंतज़ार में , हमारा प्यार हॉरर मूवी के नाम पर होगा।।

Khatm karo bahana, kabtak paas aane ke liye cockroach badnaam hoga,
Andheri raat ke intjar ke intjar me, hamara pyar horror movie ke naam par hoga.

चाहती नही हो तुम मुझे, फिर इतनी सुनती क्यो हो।
भला बेवजह , बिना सुने जा भी तो सकती थी।।

Chahti nahi ho tum mujhe, fir itni sunti kyon ho,
Bhala bewajah, bina sune ja bhi to sakti thi.

मैं अपनी गर्दन रख दू तुम्हारे एक इशारे पर बस तुम शमशीर बन जाना।
मैं अपने आप को पूरा ले आऊँगा बांधने को बस तुम जंजीर बन जाना।।

Mai apni gardan rakh du tumhare ek ishare par bas tum shamsheer ban jana,
Mai apne aap ko poora le jaunga baandhne ko bas tum zanjeer ban jana.

जब भी प्यार की बातें करू, तो कहती हो , चुप कर पागल।
आज चुप हूँ , बस इतना बताती जा, आखिर किसने बनाया पागल।।

Jab bhi pya ki baaten karu, to kahti ho, chup kar pagal,
Aaj chup hu, bas itna batati ja, aakhir kisne banaya pagal.

तुमने खुशियों को चुना मैं गम चुनता हूँ
तुमने खंज़र को चुना मैं शहनाई चुनता हूँ।
बड़े अदब से दस्तक दी थी तूने मेरे दिल मे
अब मै तेरे प्यार की कीमत के लीये बेवफाई चुनता हूँ।।

Tumne khushiyo ko chuna, mai gam chunta hu,
Tumne khanjar ko chuna, mai shehanai chunta hu,
Bade adab se dashtak di thi tune mere dil me,
Ab mai tere pyar ki keemat ke liye bewafaai chunta hu.

आजकल , एक चेहरे पर कई नकाब नजर आ रहे है।
कुछ तो बात है, बदले-बदले से जनाब नज़र आ रहे है।।

Ajkal, ek chehre par kai nakaab najar aa rahe hai,
Kuchh to baat hai, badle badle se janab najar aa rahe hai.

इश्क़ विश्क प्यार वार , अब तो बहूत हो गया यार।
मैं चला तरक्की की खातीर, तू भी जा बसा ले सपनो का संसार।।

Ishk wishk, pyar wyar, ab to bahut ho gya yaar,
Mai chala tarrakki ki khatir, tu bhi ja basa le sapno ka sansar.

आशिक़ी इस कदर करना कि कीमत न चुकानी पड़े।
सफल हो या असफल प्यार में पर , जिंदगी की रेस में मुह की न खानी पड़े।।

Aashiqui is kadar karna ki keemat na chukaani pade,
Safal ho ya asafal pyar me, zindagi ke race me muh ki na khani pade.

ये तब की बात है जब तू भी हसीन थी मैं भी जवान था।
जमाने की नज़र में तू समझदार थी पर दिल तेरा नादान था।
नजरे झुका कर , चेहरा छुपा कर भले ही तुम जाती थी।
पर मैं तेरे एक मुस्कान पर कुर्बान था।।

Ye tab ki baat hai jab tu bhi haseen thi mai bhi jawan tha,
Jamane ki najar me tu samajhdar thi par dil tera nadan tha,
Najare jhuka kar, chehra chhupa kar bhale hi tum jati thi,
Par mai tere muskan par kurban tha.

मुझे तुम्हारे चले जाने का गम था, चेहरे पर मायूसी थी।
दुनिया के नजर में ये प्यार कम था, जवानी की अय्यासी थी।।

Mujhe tumhare chale jane ka gam tha, chehre par mayusi thi,
Duniya ke najar me ye pyar kam tha, jawani ki aiyyaashi thi..

मुझे ठुकरा कर तेरे लबो पर ये हँसी कैसी जाना,
तुमने जिंदगी से ऊब कर खुदकुशी कर ली ये मैंने माना।

Mujhe tumhare chale jane ka gam tha, chehre par mayusi thi,
Duniya ke najar me ye pyar kam tha, jawani ki aiyyaashi thi..

अक्सर शायर को रातो में लिखने का जुनून देखा है ।
सच्चाई तो ये है तभी पढ़ने वालों का सुकून देखा है।
वरना ये तनहाई कहाँ किसी को जीने देती।
मरना भी चाहता कोई तो ये जहर न पीने देती।।

Aksar shayar ko raaton me likhne ka junoon dekha hai,
Sachchai to ye hai tabhi padhne walo ka sukoon dekha hai,
Warna ye tanhai kahan kisi ko jeene deti,
Marna bhi chahta koi to ye zajar na peene deti.

This Post Has One Comment

  1. Alexandr

    He Makes Money Online WITHOUT Traffic?

    Most people believe that you need traffic to profit online…
    And for the most part, they’re right!
    Fact is.. 99.99% of methods require you to have traffic.
    And that in itself is the problem..
    Because frankly, getting traffic is a pain in the rear!
    Don’t you agree?
    That’s why I was excited when a good friend told me that he was profiting, but with ZERO traffic.
    I didn’t believe him at first…
    But after he showed me the proof, it’s certainly the real deal!
    I’m curious what your thoughts are.
    Click here to take a look >> https://bit.ly/3mOAfVp
    Please view it before it’s taken down.

Leave a Reply